Custom Search

Saturday, September 22, 2007

बोलो, कि चुप रहोगे तो अपराधी कहलाओगे

दिलीप मंडल

1974 में पत्रकारों और लेखकों के बड़े हिस्से ने एक गलती की थी। उसका कलंक एक पूरी पीढ़ी ढो रही है। इमरजेंसी की पत्रकारिता के बारे में जब भी चर्चा होती है तो एक जुमला हर बार दोहराया जाता है- पत्रकारों को घुटनों के बल बैठने को कहा गया और वो रेंगने लगे। इंडियन एक्सप्रेस जैसे अपवाद उस समय कम थे, जिन्होंने अपना संपादकीय खाली छोड़ने का दम दिखाया था। क्या 2007 में हम वैसा ही किस्सा दोहराने जा रहा हैं?



मिडडे में छपी कुछ खबरों से विवाद की शुरुआत हुई, जिसके बारे में खुद ही संज्ञान लेते हुए हाईकोर्ट ने मिड डे के चार पत्रकारों को अदालत की अवमानना का दोषी करार देते हुए चार-चार महीने की कैद की सजा सुनाई है। इन पत्रकारों में एडीटर एम के तयाल, रेजिडेंट एडीटर वितुशा ओबेरॉय, कार्टूनिस्ट इरफान और तत्कालीन प्रकाशक ए के अख्तर हैं। अदालत में इस बात पर कोई जिरह नहीं हुई कि उन्होंने जो लिखा वो सही था या गलत। अदालत को लगा कि ये अदालत की अवमानना है इसलिए जेल की सजा सुना दी गई। सुप्रीम कोर्ट ने भी इस मामले की सुनवाई रोकने की अपील ठुकरा दी है। कार्टूनिस्ट इरफान ने कहा है कि चालीस साल कैद की सजा सुनाई जाए तो भी वो भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्टून बनाते रहेंगे।



मिडडे ने भारत के माननीय मुख्य न्याधीश के बारे में एक के बाद एक कई रिपोर्ट छापी। रिपोर्ट तीन चार स्थापनाओं पर आधारित थी।
- पूर्व मुख्य न्यायाधीश सब्बरवाल के सरकारी निवास के पते से उनके बेटों ने कंपनी चलाई।
- उनके बेटों का एक ऐसे बिल्डर से संबंध है, जिसे दिल्ली में सीलिंग के बारे में सब्बरवाल के समय सुप्रीम कोर्ट के दिए गए आदेशों से फायदा मिला। सीलिंग से उजड़े कुछ स्टोर्स को उस मॉल में जाना पड़ा जो उस बिल्डर ने बनाया था।
- सब्बरवाल के बेटों को उत्तर प्रदेश सरकार ने नोएडा में सस्ती दर पर प्लॉट दिए। ऐसा तब किया गया जबकि मुलायम सिंह यादव और अमर सिंह के मुकदमे सुप्रीम कोर्ट में चल रहे थे।


ये सारी खबरें मिड-डे की इन लिंक्स पर कुछ समय पहले तक थी। लेकिन अब नहीं हैं। आपको कहीं मिले तो बताइएगा।
http://mid-day.com/News/City/2007/June/159164.htm

http://mid-day.com/News/City/2007/June/159165.htm

http://mid-day.com/News/City/2007/June/159169.htm

http://mid-day.com/News/City/2007/June/159168.htm

http://mid-day.com/News/City/2007/June/159163.htm

http://mid-day.com/News/City/2007/June/159172.htm


अदालत के फैसले से पहले मिड-डे ने एक साहसिक टिप्पणी अपने अखबार में छापी है। उसके अंश आप नीचे पढ़ सकते हैं।
-हमें आज सजा सुनाई जाएगी। इसलिए नहीं कि हमने चोरी की, या डाका डाला, या झूठ बोला। बल्कि इसलिए कि हमने सच बोला। हमने जो कुछ लिखा उसके दस्तावेजी सबूत साथ में छापे गए।
हमने छापा कि जिस समय दिल्ली में सब्बरवाल के नेतृत्व वाले सुप्रीम कोर्ट के बेंच के फैसले से सीलिंग चल रही थी, तब कुछ मॉल डेवलपर्स पैसे कमा रहे थे। ऐसे ही मॉल डेवलपर्स के साथ सब्बरवाल के बेटों के संबंध हैँ। सुप्रीम कोर्ट आदेश दे रहा था कि रेसिडेंशियल इलाकों में दफ्तर और दुकानें नहीं चल सकतीं। लेकिन खुद सब्बरवाल के घर से उनके बेटों की कंपनियों के दफ्तर चल रहे थे।
लेकिन हाईकोर्ट ने सब्बरवाल के बारे में मिडडे की खबर पर कुछ भी नहीं कहा है।
मिड डे ने लिखा है कि - हम अदालत के आदेश को स्वीकार करेंगे लेकिन सजा मिलने से हमारा सिर शर्म से नहीं झुकेगा।


अदालत आज एक ऐसी पत्रकारिता के खिलाफ खड़ी है, जो उस पर उंगली उठाने का साहस कर रही है। लेकिन पिछले कई साल से अदालतें लगातार मजदूरों, कमजोर तबकों के खिलाफ यथास्थिति के पक्ष में फैसले दे रही है। आज हालत ये है कि जो सक्षम नहीं है, वो अदालत से न्याय पाने की उम्मीद भी नहीं कर रहा है। पिछले कुछ साल में अदालतों ने खुद को देश की तमाम संस्थाओं के ऊपर स्थापित कर लिया है। 1993 के बाद से हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के जजों की नियुक्ति में सरकार की भूमिका खत्म हो चुकी है। माननीय न्यायाधीश ही अब माननीय न्यायाधीशों की नियुक्ति के बारे में अंतिम फैसला करते हैँ।पूरी प्रक्रिया और इस सरकार की राय आप इस लिंक पर क्लिक करके देख सकते हैं। बड़ी अदालतों के जज को हटाने की प्रक्रिया लंगभग असंभव है। जस्टिस रामास्वामी के केस में इस बात को पूरे देश ने देखा है।


और सरकार को इस पर एतराज भी नहीं है। सरकार और पूरे पॉलिटिकल क्लास को इस बात पर भी एतराज नहीं है कि सुप्रीम कोर्ट ने संविधान में जोडी़ गई नवीं अनुसूचि को न्यायिक समीक्षा के दायरे में शामिल कर दिया है। ये अनुसूचि संविधान में इसलिए जोड़ी गई थी ताकि लोक कल्याण के कानूनों को न्यायिक समीक्षा से बचाया जा सके। आज आप देश की बड़ी अदालतों से सामाजिक न्याय के पक्ष में किसी आदेश की उम्मीद नहीं कर सकते। सरकार को इसपर एतराज नहीं है क्योंकि सरकार खुद भी यथास्थिति की रक्षक है और अदालतें देश में ठीक यही काम कर रही हैँ।


कई दर्जन मामलों में मजदूरों और कर्मचारियों के लिए नो वर्क-नो पे का आदेश जारी करने वाली अदालत, आरक्षण के खिलाफ हड़ताल करके मरीजों को वार्ड से बाहर जाने को मजबूर करने वाले डॉक्टरों को नो वर्क का पेमेंट करने को कहती है। और जब स्वास्थ्य मंत्रालय कहता है कि अदालत इसके लिए आदेश दे तो सुप्रीम कोर्ट कहता है कि इन डॉक्टरों को वेतन दिया जाए,लेकिन हमारे इस आदेश को अपवाद माना जाए। यानी इस आदेश का हवाला देकर कोई और हड़ताली अपने लिए वेतन की मांग नहीं कर सकता है। ये आदेश एक ऐसी संस्था देती है जिस पर ये देखने की जिम्मेदारी है कि देश कायदे-कानून से चल रहा है।


अदालतों में भ्रष्टाचार के मामले आम है। ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशन की इस बारे में पूरी रिपोर्ट है। लगातार ऐसे किस्से सामने आ रहे हैं। लेकिन उसकी रिपोर्टिंग मुश्किल है।


तो ऐसे में निरंकुश होती न्यापालिका के खिलाफ आप क्या कर सकते हैँ। तेलुगू कवि और राजनीतिक कार्यकर्ता वरवर राव ने हमें एक कार्यक्रम में बताया था कि इराक पर जब अमेरिका हमला करने वाला था तो वहां के युद्ध विरोधियों ने एक दिन खास समय पर अपने अपने स्थान पर खड़े होकर आसमान की ओर हाथ करके कहा था- ठहरो। ऐसा करने वाले लोगों की संख्या कई लाख बताई जाती है। इससे अमेरिकी हमला नहीं रुका। लेकिन ऐसा करने वाले बुद्धिजीवियों के कारण आज कोई ये नहीं कह सकता कि जब अमेरिका कुछ गलत करने जा रहा था तो वहां के सारे लोग बुश के साथ थे। क्या हममे है वो दम?

4 comments:

Anonymous said...

क्या बात है लिखते हो रिजेक्ट माल है पर मुझे तो यह बिलकुल ओरिजनल लग रहा है. आपने एसी खबर दी है जो आज कल के लोगो के दिमाग मे नही आ रही है. मैं कई लोगो से मिला हुं जिन्हे यह लगता है कि अदालत और माल बनाने वालो मे कुछ संबध है लेकिन हम इसे शायद अपने मन का वहम कहते थे लेकिन आपने साबित कर दिया है कि आम जनता जो महसूस कर रही है वह सही है.

संजय शर्मा
www.sanjaysharma71.blogspot.com

Suresh Chiplunkar said...

भगवान तो पत्रकार भी नहीं हैं भाई, और आजकल के पत्रकार क्या हैं यह अलग से बताने की जरूरत भी नहीं है, उद्योगपतियों के चमचे, समाचार पत्र मालिकों के भडैती, न्यूज चैनलों के भेडिये, स्थानीय अखबारों के ब्लैकमेलर... ये भी भगवान नहीं हैं, यदि पुलिस इन्हें गाहे-बगाहे जुतियाती रहती है तो कुछ गलत नहीं करती... पत्रकारिता एक पवित्र मिशन होता है ऐसा पता नहीं किसने कह दिया था...अदालतों में तो भ्रष्टाचार के किस्से आम हैं... यहाँ से वहाँ तक हमाम में सभी नंगे हैं...

Emptyhead said...

dileep bhai kafi achhi tarah se aapne unhen zubaan de di hai jinhen contempt of court ka dar dikhakar journalism ke naye path padhaye jate hain.

Hari said...

JUVAAN PAR TAALAA AUR KALAM PAR PAHRA, YE NITI HAR US TAANAASHAH KEE HOTI HAI JO KISI KE PRATI JABAAVDEH NAHIN HOTAA. AAJ SABSE BARHI TAANAASHAAH ADAALTEN HAIN KYONKI LOKTANTRA MEN WO SABSE MAJBOOT STAMBH HAIN. NYAAY KARNE VAALI YE PAALIKAA PAR KISI KAA KOI VISHESH ANKUSH NAHIN HAI AUR NIRANKUSH VYAKTI YAA SANSTHAA HEE TAANAASHAAH HO SAKTAA HAI.
80 KE DASHAK KAA EK KISSAA YAAD AATAA HAI. AGRA MEN EK CONGRESS SAANSAD KE PUTRA KEE FACTORY MEN VISFOT HUAA THAA JISMEN EK DARJAN SE JYAADAA LOG MAARE GAYE THE. VAHAAN KE TATKAALEEN DY.SP POLICE JAB MAUKE PAR PAHUNCHE TO FACTORY MAALIK UN GHAAYLON KO BORI MEN BHARVAA RAHE THE JINKI AAKHIRI SAANSE CHAL RAHEE THEE.DY. SP PAR PAHLE DAWAB BANAAYAA GAYAA, FIR MOTI RISHWAT OFFER KEE GAI KI WO FIR MEN MAUKE KAA HAAL DARJ NAA KARE LEKIN POLICE KE WO ADHIKAARI NAHIN MAANE. KUCHH DIN BAAD JAB WO ADHIKAARI TRANFAR KE BAAD AGRA KISI KAAM SE PAHUNCHE TO US FIRM KE MAALIK MIL GAYE JINHEN UNHONE JAIL BHEJ DIAA THAA. BAATCHEET MEN US FACTORY MAALIK NE KAHAA KI AAP NE TO LAKSHMI THUKARAA DEE LEKIN JAJ SAAHAB EK FIAT MEN HEE KAAM KAR GAYE. DY. SP KE MUTAABIK UNHEN JITANI RAASHI OFFER KEE GAI THEE USMEN 40 FIAT CAR AA SAKTI THEE.
YE EK ESAA UDAAHARAN HAI JO BAHUT KUCHH SOCHNE KO MAJBOOR KARTAA HAI.
HO SAKTAA HAI KI DILIP BHAI SALAAKHON KE PEECHE PAHUNCHAA DIE JAAYEN YAA HARI JOSHI LEKIN YE AAG HAR ROJ KISI NA KISI KE KALEJE SE BAAHAR NIKLEGEE.
BADHAAI DILIP BHAAI.
HARI JOSHI

Custom Search