Custom Search

Monday, November 26, 2007

फै़ज़ से मुलाकात नहीं हो पा रही है। ब्लॉगर्स पार्क के दोस्तो, मदद चाहिए?

फ़ैज़ की नज्में, ज़िया मोहिउद्दीन की आवाज़ में, मिलेगी क्या? एक थोड़ा सा हिस्सा नज़र आया था कलामे फैज़ नाम के ब्लॉग में। उसके अलावा एक ऑडियो टेप हुआ करता था कभी घर पर। शायद अभी भी है कहीं। अनुराधाजी उसे डिजिटलाइज कराना चाहती हैं। लेकिन तब तक के लिए, अगर किसी दोस्त के पास इंटरनेट का कोई लिंक हो, तो कृपया बताएं।
-dilipcmandal@gmail.com

3 comments:

अविनाश said...

हुज़ूर, जिया मोहिउद्दीन की आवाज़ में फ़ैज़ की ज़्यादातर नज़्में मेरे पास है। कुछ मैंने लाइफलॉगर पर अपलोड किया हुआ है। यहां देखिए।

Sanjeeva Tiwari said...

हम भी पढना चाहते हैं भाई फैज को

आरंभ
जूनियर कांउसिल

डॉ दुर्गाप्रसाद अग्रवाल said...

Dileep Ji,
I have that CD in my collection.
Let me search it in a day or two.
One request. If I forget to mail you, kindly be sporting enough to remind me.
Thanks.

Dr Durgaprasad

Custom Search