Custom Search

Tuesday, March 18, 2008

1000 करोड़ का कफ सिरप पी जाते हैं इस देश के लोग

कफ सिरप यानी वो दवा जिससे दुनिया की किसी बीमारी का इलाज नहीं होता। दुनिया का हर डॉक्टर जानता है कि खांसी-जुकाम जल्द ठीक करने में कफ सिरप की कोई भूमिका नहीं है। ओवर द काउंटर कफ सिरप लेना खासकर बच्चों के लिए खतरनाक हो सकता है। यूएस एफडीए कह चुका है कि दो साल से छोटे बच्चों को देना उनके लिए जानलेवा हो सकता है।

यूएस एफडीए की 17 जनवरी 2008 को जारी वार्निंग पढ़ें-

"The FDA strongly recommends to parents and caregivers that OTC cough and cold medicines not be used for children younger than 2," said Charles Ganley, M.D., director of the FDA's Office of Nonprescription Products. "These medicines, which treat symptoms and not the underlying condition, have not been shown to be safe or effective in children under 2."


2 साल से बड़े बच्चों के बारे में एफडीए की स्टडी का नतीजा आना है लेकिन उसकी साफ राय है कि

"Understand that these drugs will NOT cure or shorten the duration of the common cold"


भारत में सेहत को लेकर अज्ञान और डॉक्टर को बिना वजह भगवान मानने की प्रवृत्ति इतनी प्रबल है कि इस बारे में सवाल भी नहीं उठता कि जिस देश में हर साल साढ़े तीन लाख लोग टीबी से मरते हैं वहां सबसे ज्यादा बिकने वाली दवा का नाम कोरेक्स क्यों है। देश में एक महीने में कोरेक्स की सेल से फाइजर को साढ़े तेरह करोड़ रुपए मिलते हैं। दवा की मासिक सेल की रिपोर्ट इसी हफ्ते आई है। कोरेक्स है तो प्रेस्क्रिप्शन ड्रग पर इसे आम तौर पर लोग ओवर द काउंटर ही खरीदते हैं।

क्या इस स्थिति को बदलने में भारत सरकार की इसमें कोई भूमिका हो सकती है। मेरी राय है - नहीं। इस बारे में मेरा एक लेख आप दैनिक जागरण में पढ़ सकते हैं।

1 comment:

कमलेश मदान said...

मंडल जी क्या आप जनते हैं पिछले कुछ सालों से कफ़ सीरप का उपयोग नशे के लिये हो रहा है,यकीन नहीं है तो अखबारों के पन्ने टटोल लीजिये क्योंकि आपकी पोस्ट में ये जानकारी नहीं है.

अब तो कफ़ सीरप पार्टियां भी होने लगी हैं जिसमें 14 साल से लेकर बड़े युवा भी शामिल होते है और जिस कोरेक्स का नाम ले रहे हैं उसमें उसके कर्टून के कार्टून खप जाते हैं.

कमलेश मदान

Custom Search